Mirza Ghalib – Mere shonk da nahi aitbaar tenu

मेरे शौक दा नहीं इतबार तैनूं,
आजा वेख मेरा इंतज़ार आजा ।
ऐवें लड़न बहानने लभ्भना एं,
की तूं सोचना एं सितमगार आजा ।

भावें हिजर ते भावें विसाल होवे,
वक्खो वक्ख दोहां दियां लज़्ज़तां ने,
मेरे सोहण्यां जाह हज़ार वारी,
आजा प्यार्या ते लक्ख वार आजा ।

इह रिवाज़ ए मसजिदां मन्दरां दा
ओथे हसतियां ते ख़ुद-प्रसतियां ने,
मैख़ाने विच्च मसतियां ई मसतियां ने
होश कर बणके हुश्यार आजा ।

तूं सादा ते तेरा दिल सादा
तैनूं ऐवें रकीब कुराह पायआ,
जे तूं मेरे जनाज़े ते नहीं आया
राह तक्कदै तेरी मज़ार आजा ।

सुक्खीं वस्सना जे तूं चाहुना एं,
मेरे ‘ग़ालिबा’ एस जहान अन्दर,
आजा रिन्दां दी बज़म विच्च आ बहजा,
इत्थे बैठदे ने ख़ाकसार आजा ।