Gulzar – Zubaan par zaiyka aata tha jo sfhe palatne se


ज़ुबान पर ज़ायका आता था जो सफ़हे पलटने का

ज़ुबान पर ज़ाएका आता था जो सफ़हे पलटने का
अब उँगली ‘क्लिक’ करने से बस इक
झपकी गुज़रती है
बहुत कुछ तह-ब-तह खुलता चला जाता है परदे पर
किताबों से जो जाती राब्ता था, कट गया है
कभी सीने पे रख के लेट जाते थे


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *